• twitter
  • facebook
  • pinterest
  • envato
  • rss

प्रवेश के नियम व शर्तें

1. बी0 ए0 प्रथम बर्ष मे प्रवेश इण्टररमीडिएट मे प्राप्त अंको के आधार पर होगा।

2. स्नातक द्वितिय एवं तृतीय बर्ष मे अन्य म‍हाविद्यालय से आये विद्यार्थी का प्रवेश नही होगा।

3. प्रवेश आवेदन पत्र प्राप्त करने एवं जमा करने की तिथि समयानुसार महाविद्यालय के सूचना पट्ट एवं समाचार पत्रो मे प्रकाशित कर दी जायेगी।

4. सभी कक्षाओ मे प्रवेश प्रवेश समिति द्वारा उपलध स्थान को ध्यान मे रखते हुए किया जायेगा।

5. प्रवेश समिति साक्षत्कार के बाद अभ्यिर्थी को प्रवेश अनुमति पत्र प्रदान करेगा जिसे प्राचार्य से हस्ताक्षरित कराना होगा। और उसे निर्धारित तिथि के अन्दर ही महाविद्यालय कार्यालय मे प्रस्तुत कर प्रवेश कर लेना होगा।

6. साक्षात्कार के समय ट्रान्सफर सर्टीफिकेट, चरित्र प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, खेल कुद निपुणता प्रमाण पत्र एवं आवेदन पत्र मे दिये गये सभी तथ्यों से सम्बन्धित प्रमाण पत्र एवं उर्त्तीर्ण की गयी परीक्षाओ के प्रमाण पत्र एवं प्राप्तांक पत्रो की मुल प्रतियां प्रस्तु्त करनी होगी।

7. दो बर्ष अधिकतम अंतराल होने पर एक बर्ष हेतू पाँच प्रतिशत और दो बर्ष हेतू आठ प्रतिशत अंक काटकर आवेदन पत्र पर विचार होगा। दो बर्षो से अधिक बर्षो के अन्तराल की दशा मे आवेदन पत्र निरस्त हो जायेगा। अंतराल गैप को संतोषजनक रूप से स्पष्ट करते हुए नोटरी पत्र देना होगा।

8. किसी समय यह पता चलने पर कि प्रार्थी ने प्रवेश आवेदन पत्र मे कोई असत्य विवरण प्रस्तुत किया है उसका प्रवेश निरस्त कर महाविद्यालय से निष्कासित कर दिया जायेगा।

9. प्रवेश प्राप्त किये संस्थागत छात्र / छात्राओं को सम्बन्धित सत्र के 30 जून तक ही योग्य विद्यार्थी माना जायेगा।

10. उतीर्ण परीक्षा की स्थायी अंक तालिका ही मान्य होगी, इसमे प्रतिबन्धित अथवा प्राविजनल मार्कशीट अमान्य है।

11. कोई भी प्रार्थी अपने अधिकार के रूप मे प्रवेश की मांग नही कर सकता, चाहे वह प्रवेश के लिए हर प्रकार योग्य क्यों न हो।

12. बिना कारण बताए किसी छात्र/छात्रा को प्रवेश रोकने अथवा निरस्त करने का सर्वाधिकार महाविद्यालय के प्राचार्य के पास सर्वथा सुरक्षित है।


उपस्थिती

गोरखपुर विश्वविद्यालय के नियमानुसार सभी कक्षाओ की परीक्षायों के लिए शिक्षण अवधि मे हुए कक्षा व्यखानों, सेमीनारों तथा ट्यूटोरियलों में 75 प्रतिशत उपस्थिती अनिवार्य है । विषय के अतिरिक्त प्रयोगशाला या कार्यशाला में किए गए प्रयोगात्मक कार्य में भी 75 प्रतिशत उपस्थिती अनिवार्य होगी । प्रतेक विद्यार्थी का उत्तरदायित्व है कि समय समय पर अपने उपस्थिती का पूर्ण जानकारी महाविद्यालय कार्यालय से प्राप्त करता रहे ।



राष्ट्रीय सेवा योजना

राष्ट्रीय सेवा योजना (एन0 एस0 एस0) में सम्मिलित होने की इच्छा रखने वाले छात्र/छात्रा निदेशक, राष्ट्रीय सेवा योजना से उनके कार्यालय से संपर्क करें। केवल स्नातक कक्षाओं के छात्र / छात्रा राष्ट्रीय सेवा योजना के सदस्यम हो सकते है। छात्र / छात्रा को दो बर्ष की अविच्छिन्न् अवधि पुरी करने का नियमानुसार प्रमाण पत्र दिया जायेगा।



महाविद्यालय के मुख्य अनुशासनिक नियम निम्नलिखित है --

1, अपना परिचय पत्र बनवा लें। उसे सदैव अपने पास रखें। इसके अभाव मे आप महाविद्यालय का कोई प्रमाण पत्र अथवा सुविधायें नही पा सकते है तथा परिचय पत्र साथ न होने पर आप दण्डित भी हो सकते है।
2, महाविद्यालय के भवन एवं सम्पत्ति को किसी प्रकार की क्षति न पहुंचाए।
3, विभाग/संकाय/नियन्ता कार्यालय एवं अधिष्ठाता छात्र कल्याण के सूचना पट्ट बराबर देखते रहें।
4, महाविद्यालय के अन्दर एवं बाहर कोई ऐसा कार्य न करे, जिससे आपका अथवा महाविद्यालय का नाम कलंकित हो।
5, अन्य नियम नियन्ता कार्यालय से प्राप्त निर्देशिका में वर्णित है।
6, नियमों का उलंघन दण्डिनीय होगा।


अनुशासन संबन्धित सूचना

यदि कोई दुर्व्यवहार या उत्तरोत्तर कार्य विमुखता के लिए दोषी पाया जाता है तो अपराध की प्रकृति और गम्भीरता के अनुरूप निम्न रूपों मे उसे दण्डित किया जा सकता है।
क- चेतावनी
ख- अर्थदण्ड
ग- वित्तीय तथा अन्य सुविधाओं से वंचित किया जाना
घ- निलम्ब्न (सस्पेंकशन)
ड- चरित्र प्रमाण पत्र का निरस्तींकरण तथा चरित्र प्रमाण पत्र न दिया जाना
च- निष्कासन (एक्सीपल्शन)
छ- निस्तारण (रेस्टीकेशन)


परिचय पत्र

1, महाविद्यालय के प्रत्येक छात्र / छात्रा के पास महाविद्यालय द्वारा प्रदत बैध परिचय पत्र होना आवश्यक है। परिचय पत्र के बिना महाविद्यालय मे प्रवेश वर्जित है।

2, प्रवेश के बाद यथाघ्र प्रत्येक विद्यार्थी को नियन्ता कार्यालय मे प्रवेश शुल्क रसीद प्रस्तुत करके परिचय पत्र प्राप्‍त करने के लिए निर्धारित प्रपत्र प्राप्त कर लेना चाहिए। इस प्रपत्र के साथ पासपोर्ट साईज के दो फोटो लगाकर नियन्ता कार्यालय मे जमाकर परिचय पत्र तैयार हो जाने पर उसे कार्यालय से प्राप्त कर लेना चाहिए।

3, पुराने छात्र को हर बर्ष अपने परिचय पत्र का नवीनीकरण अगली कक्षा में प्रवेश लेने के त्तकाल बाद यथाघ्र करा लेना चाहिए।

4, परिचय पत्र गायब होने या महाविद्यालय के किसी अन्य विद्यार्थी का परिचय पत्र पाने की सूचना मुख्य नियन्ता को यथाघ्र दे देना चाहिए।

5, मूल परिचय पत्र खो जाने की दशा मे महाविद्यालय कार्यालय मे रू0 10/- शुल्क जमा करना होगा, इस शुल्क के रसीद के साथ आवेदन करने पर नियन्‍ता कार्यालय से दुसरा परिचय पत्र प्राप्त किया जा सकता है। किसी भी दशा मे नकद भुगतान न करें।

6, परिचय पत्र न होने पर विद्यार्थी महाविद्यालय का कोई प्रमाण पत्र या सुविधा नही प्राप्त कर सकेगा तथा उसे दण्डित भी किया जा सकता है।


चरित्र प्रमाण पत्र / स्थानान्तरण प्रमाण पत्र / माईग्रेशन प्रमाण पत्र

1, स्थानान्तरण प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए विभिन्न विभागो से अदेयता प्रमाण पत्र भी प्रस्तुत करना विद्यार्थी का दायित्व होगा। स्थानान्त्रण प्रमाण पत्र की द्वितिय प्रतिलिपि प्राप्त करने के लिए एक नोटरी देना अनिवार्य है साथ ही इसके लिए 15 रू0 शुल्क कार्यालय मे जमा करना होगा।
2, माइग्रेशन प्रमाण पत्र विश्वविद्यालय द्वारा दिया जाता है । इस हेतू पपत्र विश्वविद्यालय से प्राप्त करके महाविद्यालय प्राचार्य से अग्रसारित कराकर विश्वविद्यालय मे जमा करना होगा।
जिस तिथि को प्रमाण पत्र की आवश्याकता हो उस तिथि से कम से कम तीन दिन पूर्व आवेदन करना सुविधाजनक होगा।